मुँह के छालों का इलाज करे इन 10 घरेलु उपायों से

मुँह के छालों का इलाज कई तरह से संभव है परन्तु ज्यादातर लोग शुरुआत में घरेलु नुस्खे ही अपनाते है बहुत ज्यादा दर्द या अधिक पैनिक होने पर ही लोग डॉक्टर से सलाह लेते है क्योकिं मुँह के छालों का इलाज हमारे भारतीय किचन में भी कई तरह से संभव है मुँह के छालों का इलाज कोई कठिन समस्या नहीं है कुछ घरेलु उपायों को अपनाकर हम इसे आसानी से ठीक कर सकते है परन्तु सबसे महत्वपूर्ण बात यह है की क्या है मुँह के छाले क्यों होते है ये और किन किन प्रकारों से इन्हे ठीक किया जा सकता है आइये जानते है मुँह के छालों के बारे में –

मुँह के छालों का इलाज

क्या है मुँह के छाले –मुँह के छाले मुँह के कई भागों में होते है परन्तु ज्यादातर ये मुँह के ऊपरी भाग में,मसूड़ों के ऊपर ओठों के अंदर वाले भाग में ,गालों के अंदर वाले भाग में ,जीभ के ऊपर या नीचे भी हो सकते है यह सफेद और लाल रंग में होते है जिनके अंदर पीले रंग की पस भरी होती है ये काफी दर्द भी देते है मुँह में छाले हो जाने पर बोलने ,बात करने एवं खाना खाने में समस्या होती है वैसे तो मुँह के छाले अपने आप ही 6 से 7 दिनों में ठीक हो जाते है पर ये बहुत दर्द और परेशानी देते है जिसकी वजह से हम इन्हे जल्दी ठीक करना कहते है।

क्यों होते है मुँह में छाले –मुँह के छाले होने के कई कारण है पर ज्यादातर ये पेट की खराबी ,हैवी खाना खाने की वजह से होते है कुछ और भी कॉमन कारण है जो इस प्रकार है –

1 .स्ट्रेस लेने से –स्ट्रेस मुँह के छाले होने के मुख्य कारणों में से है जब हम ज्यादा तनाव लेट है और ठीक से कुछ खाते पीते नहीं है तो हमारे मुँह में छाले हो जाते है।

2 .कब्ज –मुँह के छालों का मुख्या कारण कब्ज भी है क्योकि कब्ज में ठीक से पेट साफ़ नहीं होता है और हमारी बॉडी से गंदगी बाहर नहीं निकलती तो हमारे शरीर में टॉक्सिस जमा हो जाते है जिससे मुँह में छाले निकल आते है।

3 .अपच या पेट की खराबी –अपच एवं पेट की खराबी के कारण भी मुँह में छले हो जाते है क्योकि अपच होने पर हमारा काना ठीक से नहीं पचता है जो हमारी बड़ी आतं में जाकर जमा हो जाता है और बॉडी में वैक्टीरिया फैलता है जिससे मुँह में छाले हो जाते है।

4 .हार्मोनल बदलाव –समय-समय पर हमारी बॉडी में हार्मोनल चेंज होते रहते है जिससे कभी -कभी हमारे मुँह में छाले निकल आते है।

5 .विटामिन की कमी -मुँह में छाले हो जाने पर ज्यादातर विटामिन B 12 की कमी को माना जाता है विटामिन B 12 की कमी हो जाने पर हमारे शरीर में एनीमिया ,कब्ज ,गैस -एसिडिटी जैसी बीमारियाँ जन्म लेती है जो मुँह में छाले होने का मुख्य कारण है।

6 .गर्मी बढ़ना –कभी कभी हम कुछ ऐसी चीजे खा लेते है जिनकी ताशीर काफी गर्म होती है जिससे हमारी शरीर में गर्मी बढ़ जाती है और फिर हमे मुँह में छाले जैसी समस्याएं देखने को मिलती है।

7 .खटटे फलों का सेवन –कभी कभी हम कुछ खट्टे फलों का सेवन कर लेते है जैसे -कच्चे आम ,इमली ,अंगूर ,संतरा आदि। इन फलों में टार्टरिक एसिड काफी मात्रा में होता है जो हमारे मुँह में घाव कर देता है जो छालों का रूप ले लेते है।

8 .तम्बाकू एवं चुने का सेवन –तम्बाकू एवं चूने में भरपूर मात्रा में निकोटीन एवं सायनाइड मौजूद होता है जो एक धीमा जहर मके सामान होता है जिसके ज्यादा सेवन से हमारे मुँह के अंदर खत हो जाते है एवं छाले का रूप ले लेते है।

मुँह के छालों के घरेलु उपचार –मुँह के छालो का घरेलु इलाज काफी कारगर है जो ज्यादातर लोग अपनाते है आइये जानते है मुँह के छालों का घरेलु इलाज –

1 .व्रत करे –व्रत में आप अनाज का उपवास करते है एवं फलों का सेवन करते है जो आपके पेट के लिए काफी फायदेमंद है यदि आपका पेट साफ़ हो जायेगा तो मुँह के छालो से जल्दी राहत मिल जाएगी।

2 .दही अथवा योगट का सेवन –दही में विटामिन B 12 भरपूर मात्रा में पायी जाती है दही का भरपूर मात्रा में सेवन करे जिससे विटामिन B 12 की कमी पूरी हो जाये और आपके मुँह के छाले जल्द ठीक हो जाये।

3 .नमक पानी –मुँह में छाले हो जाने पर एक गिलास हल्के गरम पानी में एक चम्मच नमक मिलाये फिर ऐसे थोड़ा -थोड़ा मुँह में भरकर गरारे करे इस नुस्खे से छाले बहुत जल्दी ठीक हो जायेगे।

4 .बेकिंग सोडा का पानी –नमक पानी की तरह बेकिंग सोडा के पानी से भी गरारे करने पर मुँह के छालो में जल्द आराम मिलता है।

5 .फिटकरी का उपयोग –मुँह के छालों को फिटकरी के पानी से धोने पर बहुत जल्दी आराम मिलता हैं यह काफी कारगर उपाय है।

6 .अमरुद एवं बबूल की पत्ती –अमरुद एवं बबूल की पत्ती में पेट को साफ एवं स्वस्थ रखने के गुण पाए जाते है इनका सेवन यदि आप सुबह खाली पेट करते है तो आप मुँह के छालों से निजात पा सकते है।

7 .गाय का देशी घी –यदि आपके मुँह के छालों में काफी जलन महसूस हो रही है और इंफेक्शन बढ़ता जा रहा है तो आपको ऐसे रोकने के लिए गाय का घी लगाना चाहिए। इसे आप दिन में कई बार कर सकते है गाय का घी मुँह में लगाने से पहले मुँह को अच्छी तरह साफ़ कर ले कम से कम 5 मिनट तक लगाए रखे। इन 5 मिनट के दौरान आपको कुछ भी नहीं खाना है।

8 .ग्लिसरीन और हल्दी का पेस्ट –ग्लिसरीन और हल्दी में एंटीसेप्टिक गुण होते है जो घाव को जल्दी ठीक कर देते है ग्लिसरीन और हल्दी का पेस्ट लगाने से पहले मुँह को अच्छी तरह साफ़ कर ले फिर मुँह के अंदर छालों में इस पेस्ट को लगाए कम से कम 5 मिनट तक लगाए रखे फिर मुँह को साफ़ कर ले इस प्रयोग को आप दिन में कई बार कर सकते है।

9 .कॉपर सल्फेट (नीला थोथा )-इसे आप मार्केट से पंसारी की दूकान से आसानी से ला सकते है यह नीले रंग के क्रिस्टल के सामान होता है इसे लाकर तवे में भूनकर पाउडर बना ले फिर इसे छालों में लगाकर जीभ बाहर रखें जिससे आपकी लार बाहर निकले इसे निगले नहीं क्योकि इसमें टॉक्सिस होते है तो निगलने के कारण यह आपको नुकसान पहुंचा सकता है इसका प्रयोग सावधानी पूर्वक करे एवं बच्चों से दूर रखे।

10 .शहद और कत्थे का प्रयोग –शहद और कत्थे का प्रयोग मुँह के छालों में बहुत फायदेमंद होता है इसके प्रयोग से आपको जलन से छुटकारा मिल सकती है ग्लिसरीन और हल्दी के पेस्ट की तरह ही इसे इस्तेमाल करना है इस प्रयोग से भी आपके मुँह के घाव जल्द ठीक हो जायेगे और आपको मुँह के छालों से निजात मिल जाएगी।

मुँह के छालों में किन चीजों से परहेज करे –मुँह में छालें होना एक आम समस्या है यह किसी को भी हो सकता है हालाँकि इसका कोई एक कारण या एक इलाज नहीं। कई कारणों से यह होता है और कई घरेलु उपायों से ठीक भी हो जाता है परन्तु यदि आपके मुँह में छालें हो जाते है तो कुछ चीजों के परहेज से आप इन्हे जल्दी ठीक कर सकते है जो इस प्रकार है –

-मुँह में छालों के दौरान कुछ खट्टे फल जैसे कच्चे आम ,इमली ,कैथा ,अंगूर ,संतरा आदि का सेवन न करे।

-तम्बाकू एवं चुने का सेवन हरगिज न करे।

-ज्यादा तेल मसाले वाली चीजों का सेवन न करे।

-बाहर के भारी खाना खाने से बचे।

-गैस एवं एसिडिटी बढ़ाने वाली चीजों का सेवन न करे।

-जब तक आपके मुँह के छाले ठीक नहीं होते आप कोलगेट का प्रयोग न करे।

अगर आप ऊपर दिए गए घरेलु उपायों का प्रयोग करते है तो अमूनन आपको मुँह के छालों से छुटकारा मिल जायेगा पर ये छाले कुछ लोगो में ज्यादा दर्द देते है एवं ज्यादा समय तक रहते है जिससे वो लोग इससे डर जाते है और मुँह के आम छालों को कैंसर के छाले समझने लगते है पर मुँह के अल्सर और कैंसर में बहुत अंतर होता है हमने इस ब्लॉग के माध्यम से आपको मुँह के छालों और कैंसर के छालों में अंतर बताया है जो इस प्रकार है –

1 .मुँह के छालों की पहचान –                                                               

-मुँह के छाले देखने में छोटे होते है।

-मुँह के छालों में जलन व दर्द होता है।

-ये एक या दो सप्ताह में ठीक हो जाते है।

-अधिकांशतः मुँह के छालें पेट की खराबी या स्ट्रेस के कारण होते है।

-ये छाले या तो लाल होंगे या सिर्फ सफ़ेद।

2 .कैंसर के छालों की पहचान-     

-कैंसर के छालों के घाव मुँह के छालों की अपेक्षा बड़े होते है।

-इन छालों में ज्यादा दर्द नहीं होता जब तक इनको छुओ नहीं।

-ये लम्बे समय तक रहते है।

-इनका रंग लाल और सफेद का मिक्स होता है।

-इन छालों पर कितने भी घरेलु नुस्खे अपना ले पर ये ठीक नहीं होते है।

ऊपर दिए गए कैसर के छालो की पहचान में अगर आपको ऐसे कोई लक्षण दिखाई देते है तो आपको अनसुना नहीं करना चाहिए क्योकि कैंसर एक बहुत ही खतरनाक बीमारी है जिसका अभी तक कोई सटीक इलाज नहीं है तो आपको तुरंत किसी डेंटिस्ट या अच्छे डॉक्टर को दिखाना चाहिए। जिससे समय पर आपके छालो की पहचान कर उनका सही इलाज किया जाये।

आगे भी पढ़े –कब्ज ठीक करने के आसान घरेलु उपाय,कब्ज क्या है।

                     जोड़ों एवं घुटनों का दर्द क्या है इसे कैसे ठीक करे

                     माइग्रेन सिरदर्द के लक्षण एवं उपचार ऐसे पाएं छुटकारा

One thought on “मुँह के छालों का इलाज करे इन 10 घरेलु उपायों से

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!