माइग्रेन सिरदर्द के लक्षण एवं उपचार – ऐसे पाएं छुटकारा

 माइग्रेन क्या है –

माइग्रेन एक प्रकार का सिरदर्द है जो बहुत कष्टदायक है यह ज्यादातर सिर के आधे हिस्से में होता है पर जरुरी नहीं की यह सिर्फ सिर केएक हिस्से में हो। कभी यह सिरदर्द सिर के दाये हिस्से में तो कभी सिर के बायें हिस्से में और कभी कभी आँखों के ऊपर होने लगता है माइग्रेन सिरदर्द के लक्षण एवं उपचार का पता लगाना थोड़ा कठिन है।

माइग्रेन में अक्सर सिर के एक ओर झनझनाहट वाला तेज दर्द महसूस होता है। माइग्रेन एक सामान्य स्वास्थ्य समस्या है जो लगभग पांच  महिलाओं में एक को एवं 15 पुरुषों में एक को होती है सामान्यतः यह प्राम्भिक वयस्कता में प्रारंभ होता है माइग्रेन सिरदर्द के लक्षण एवं उपचार का कोई सटीक उत्तर नहीं है प्रत्येक व्यक्ति में यह अलग -अलग देखने को मिलता है

माइग्रेन-सिरदर्द-के-लक्षण-एवं-उपचार  

माइग्रेन में कुछ व्यक्तियों में मितली ,उल्टी और प्रकाश एवं ध्वनि के प्रति  संवेदनशीलता में वृद्वि जैसे लक्षण भी होते है। एक अध्ययन के मुताबिक माइग्रेन एक ऐसा न्यूरोलॉजिकल डिसऑर्डर है ,जिससे वैश्विक स्तर पर प्रत्येक सातवां व्यक्ति पीड़ित है।भारत में दस करोड़ से भी ज्यादा लोग इस अप्रिय दर्द से पीड़ित है भारतीय महिलाएं इस बीमारी से ज्यादा पीड़ित है 100 में 76 फीसदी महिलाये माइग्रेन ग्रस्त है जो एक बहुत बड़ी समस्या बन चुकी है।

 माइग्रेन सिरदर्द  के प्रकार –

 माइग्रेन निम्नलिखित  कई प्रकार के होते है

1 – पूर्वाभास माइग्रेन -जिसमे माइग्रेन प्रारंम्भ होने से पूर्व कुछ विशेष संकेत एवं चेतावनी देता है।

2 – पूर्वाभास रहित माइग्रेन – इसमें माइग्रेन प्रारम्भ  होने से पूर्व कोई चेतावनी या संकेत नहीं देता है।

3-  सिरदर्द रहित या शांत माइग्रेन – इस माइग्रेन में बिना दर्द के पूर्वाभास के माइग्रेन के लक्षणों का आभास होता है।

कुछ लोगो में यह सिरदर्द लगातार एवं सप्ताह में कई बार उत्पन्न होता है तो कुछ लोगो में यह कभी कभी ही होता है माइग्रेन के दौरों की अवधि कई वर्षो तक हो सकती है।

 माइग्रेन सिरदर्द  के लक्षण –

1-  सिर के एक हिस्से में बहुत ही असहनीय दर्द होता है

2 – ज्यादातर लोगो में तेज रोशनी ,तेज आवाज एवं गंध के प्रति संवेदनशीलता होती है

3 – आँखों के ऊपर एवं आँखों के चारो ओर तेज दर्द होता है एवं आँखों के नीचे काले घेरे हो जाते है।

4-  कुछ लोगो में मितली और उल्टी होती है एवं दिनभर बेवजह की उबासी रहती है।

5-  गुस्सा और चिडचिड़ापन बढ़ जाता है बेवजह लोगो पर गुस्सा आता है।

6 – माइग्रेन सिरदर्द के साथ बार बार मूत्र त्याग की इच्छा होती है

7-  सिरदर्द के दौरान कुछ लोगो में खाने की इच्छा बढ़ जाती है।

8 – माइग्रेन सिरदर्द के दौरान ज्यादा भीड़भाड़ वाली जगहों में उलझन होती है

9-  माइग्रेन से पीड़ित लोगो को बंद जगहों में भी कई दिक्क्तों का सामना करना पड़ता है।

ऊपर दिए माइग्रेन सिरदर्द के लक्षण सभी में अलग अलग हो सकते है परन्तु सभी माइग्रेन से पीड़ित लोगो में ये लक्षण अवश्य दिखाई देते है और उन्हें असहनीय दर्द से गुजरना पड़ता है दिन प्रतिदिन दर्द बढ़ने पर ये लोग संवेदनशील होते जाते है।

माइग्रेन सिरदर्द  के कारण –

हालाँकि माइग्रेन का कोई सटीक कारण नहीं है यह माना जाता है कि मस्तिष्क में नाड़ियों एवं रक्त कोशिकाओं में अल्पकालीन परिवर्तनों के कारण होता है।

1-  माइग्रेन से पीड़ित लोगो में आधे से ज्यादा व्यक्तियों में उनके कोई निकट सम्बन्धी या रिश्तेदार के पीड़ित होने से भी माइग्रेन होता है जिसे वंशानुकृत कारण माना जाता है।

2-  कुछ लोगो में माइग्रेन के दौरे कुछ विशेष कारणों से उत्पन्न होते हैं –

3-  माहवारी का आरम्भ होना

4-  मानसिक तनाव

5-  थकावट

6 – कुछ विशिष्ट आहार एवं अथवा पेयजल

7-  ज्यादा यात्रा

8-  खराब वातावरण

  •   माइग्रेन सिरदर्द  से बचाव –

अगर आप चाहते है कि आपको माइग्रेन न हो या हो जाने पर कैसे इससे बचे तो सबसे पहले आपको अपनी जीवन शैली में

सुधार करना  होगा। अपनी जीवन सैली और अपने आहार में सुधार करने से इस बीमारी से बचा जा सकता है।

1 – अगर आप गर्मी के मौसम  में बाहर निकलते है तो तेज धूप के सीधे सम्पर्क में आने से बचे। तेज धूप में सनग्लासेस या छाते का प्रयोग करे।

2- गर्मी के मौसम में ज्यादा ट्रेवल करने से बचे।

3-  रोजाना 8 से 10 ग्लास पानी जरूर पिए एवं  अपने बॉडी को हायड्रेट रखे। डिहायड्रेशन माइग्रेन की समस्या का सबसे बड़ा कारण है इसलिए अधिक से अधिक पानी पिए।

4 – ज्यादा मसालेदार तला भुना भोजन करने से बचे ब्लड प्रेशर मैंटेन रखे एवं गर्भनिरोधक गोलियां खाने से बचे।

5  रोजाना सुबह टहले ,नंगे पाँव घास पर चले क्योंकि इससे तनाव कम होता है और तनाव कम होने से हार्मोन्स

बैलेंस रहेगा।

6  सुबह टहलने के बाद रोजाना 20 मिनट योगासन या प्राणायाम अवश्य करे इससे आपको जल्दी आराम मिलेगा

7 – अगर आप माइग्रेन के दर्द से बहुत ज्यादा पीड़ित है तो सुबह 10 मैडिटेशन जरूर करे ,मैडिटेशन करने से

आपका मस्तिष्क शांत हो जायेगा एवं आपको दर्द से तुरंत राहत मिलेगी।

8 – माइग्रेन के मरीजों को खूबसारा फलो का जूस ,नीम्बू पानी एवं सूप जरूर पिये।

9  माइग्रेन होने पर कम से कम मात्रा में नमक ले क्योकि ज्यादातर फ़ूड आईटम में कूद ही नमक होता है।

10-  चाय, कॉफी एवं कोल्ड्रिंक आदि लेने से बचे ये चीजें माइग्रेन को बढ़ाती है।

एल्कोहल एवं चॉकलेट आदि लेने से भी बचे ये सिरदर्द को बढ़ती है।

11-   ज्यादादेर भूखे न रहे एवं उपवास से बचें। कभी -कभी खाली पेट रहने से भी सिरदर्द होने लगता है।

12-  माइग्रेन से पीड़ित लोगो को भरपूर और गहरी नींद लेना बहुत जरूरी है गहरी नींद शरीर में ऑक्ससीजन लेकर

माइग्रेन को दूर करने में सहायक होती है इसलिए गहरी नींद अवश्य ले।

13 – अपनी पसंद का मधुर और कोमल गीत सुने और अपने मन को शांत रखे।

14- माइग्रेन हो जाने पर बाहर के भोजन जंक फ़ूड आदि खाने से बचे।

  •   माइग्रेन सिरदर्द  से बचाव के घरेलु उपाय 

ज्यादातर लोग माइग्रेन से निजात पाने के लिए घरेलु नुस्खों का प्रयोग करते है जो सही मायनो में हमे माइग्रेन से निजात दिलाता है अगर कुछ घरेलु नुस्खों को हम सही तरीको से प्रयोग करे तो हम माइग्रेन जैसी अप्रिय बीमारी से हम बहुत जल्दी निजात पा  सकते है हम आपको विशेषज्ञों द्वारा बताये गए कुछ घरेलू नुस्खे बतायेगे जो आपको माइग्रेन से निजात पाने में आपकी मदद करेंगे।

1  देशी घी से माइग्रेन का इलाज –

माइग्रेन को भागने के लिए रोज शुद्ध देशी घी की 2 -2 बुँदे नाक में डाले। इस प्रकिया को आप दिन में दो बार सुबह और शाम को करे।

2  दालचीनी से माइग्रेन का इलाज –

हालाँकि दालचीनी का प्रयोग हम अपने किचेन में करते है यह खाने का टेस्ट बढ़ाने के साथ साथ माइग्रेन का भी सफल इलाज करता है दालचीनी को पानी के साथ पीसकर 30 मिनट तक माथे में लगाए इससे दर्द में तुरंत राहत मिलेगी।

 3 अदरकन से माइग्रेन का इलाज –

अदरक एक बहुत गुणकारी मसाला है इसे चाय में डालकर पीने से माइग्रेन के दर्द से आप निजात पा  सकते है ज्यादा दर्द होने पर एक चम्मच अदरक के रस में शहद मिला ले। इस मिश्रण को पीने से तुरंत दर्द से राहत मिलेगी।

4  लौंग पाउडर से माइग्रेन का इलाज –

अगर आपके सिर में बहुत तेज दर्द हो रहा हो तो लौंग पाउडर में नमक मिलाकर दूध के साथ पिए। इससे आपको आराम मिलेगा।

5  मसाज से माइग्रेन का इलाज –

मसाज एक ऐसी प्रकिया है जो आपने शरीर को शांत करने के साथ -साथ आपके दिमाग को भी शांत करती है अगर आपको माइग्रेन सिरदर्द से निजात पाना है तो आप मह 15 से 20 दिन में एक बार मसाज ले सकते है

  विधि – तेल को हल्का गर्म कर ले। सिर में हल्के हाथों से मसाज करे एवं सिर के साथ -साथ हाथ -पैर ,गर्दन व कंधे की भी मालिश करे।

6  रोशनी से बचे 

जिन लोगो को माइग्रेन की समस्या है उन्हें ज्यादा धुप या रोशनी से बचना चाहिए अपने आस -पास कम एवं धीमी रोशनी रखे , धूप में चश्मे एवं छाते का प्रयोग करे। रोशनी सीधे हमारी आँखों एवं मस्तिष्क को प्रभावित करती है इसलिए हमे इससे बचाना चाहिए।

7  पिपरमिंट से माइग्रेन का इलाज –

पिपरमिंट में सूजन को कम करने एवं शांत भाव वाले गुण होते है इसलिए आप तेज सिरदर्द में पिपरमिंट की चाय पी सकते है एवं जल्दी राहत के लिए पिपरमिंट ऑयल की एक चम्मच शहद के साथ आधे गिलास पानी में मिलाकर भी पी सकते है

  •   माइग्रेन सिरदर्द के लिए योगासन

अगर आप माइग्रेन सिरदर्द जैसी समस्या से जूझ रहे है तो नियमित  योग और प्राणायाम करने आप इस समस्या से हमेशा के लिए निजात पा  सकते है हम आपको कुछ योग क्रियाये बतायेगे जो आपको इस समस्या से निजात पाने आपकी मदद करेंगे।

 1 -अनुलोम- विलोम –

इस प्राणायाम को रोज सुबह -शाम नियमित रूप से करने से माइग्रेन के साथ -साथ आपको पेट सम्बन्धी बीमारियों से निजात पाने में आपकी मदद करेगा।

माइग्रेन-सिरदर्द-में-योगासन

 2 -भ्रामरी –

इस आसान को करने से आपके मस्तिष्क की नसे संत होगी जिससे आपको सिरदर्द नहीं होगा अतः इस आसन को भी आप सुबह -शाम करे।

 3 -सूर्य नमस्कार –

वैसे तो प्रत्येक व्यक्ति को सूर्य नमस्कार करना बहुत जरूरी है इस योग से हम कई रोगो से निजात पा सकते है। यह हमारे लिए बहुत ही लाभकारी आसन है परन्तु माइग्रेन से पीड़ित लोगो को यह प्रतिदिन करना चाहिए रोज करने से माइग्रेन सिरदर्द धीरे -धीरे ठीक हो जाता है।

 4 -बलासन- 

यह  आसन तनाव से छुटकारा दिलाने के लिए सबसे अच्छा योगासन माना जाता है।  इस आसन को करने से तंत्रिका तंत्र को शांत करने के साथ दर्द से भी छुटकारा दिलाता है।

  •   डॉक्टर से सलाह कब ले –

माइग्रेन एक असहनीय सिरदर्द बीमारी है यह ज्यादातर आधे सिर में होने वाली अप्रिय बीमारी है इसे अधकपारी भी  कहते है। वैसे तो सही दिनचर्या और पौष्टिक आहार लेने से इस बीमारी से छुटकारा पाया जा सकता है परन्तु आधे सिर में होने वाला यह दर्द कम नहीं हो रहा और नियमित योग एवं तरह -तरह के घरेलु उपचार लेने के बाद सिरदर्द से राहत नहीं मिल रही है तो आपको तुरंत किसी अच्छे एवं स्पेस्लिस्ट से संपर्क करना चाहिए। माइग्रेन सिरदर्द कोई आप बीमारी नहीं है यह लम्बे समय तक रहने वाला एक असहनीय दर्द है  इसलिए समय रहते किसी अच्छे डॉक्टर से सलाह अवश्य ले।

  • माइग्रेन सिरदर्द  से पीड़ित लोगो की दिनचर्या कैसी    

1 –रात को 10 बजे तक सो जाए और 6 से 7 घंटे की भरपूर नींद ले

2 –सुबह सूर्योदय के पहले उठे उठने के तुरंत बाद 2 से 3 ग्लॉस गर्म पानी पिए

3 –सुबह ऊपर बताये गए योगासन एवं व्यायाम अवश्य करे।

4 –सुबह नाश्ते  में ताजे फल या फलो का जूस ले।

5 –दोपहर के खाने में संतुलित आहार ले।

6 –ज्यादा देर तक खाली पेट न रहे।

7 –जितना हो सके तनाव न ले एवं भीड़ -भाड़ में जाने से बचे।

8 –गर्मी के मौसम में धूप  में जाने से बचे।

9 –जंक फ़ूड खाने  से बचे ज्यादा से ज्यादा पानी पिए।

10 –शाम को योगासन एवं व्यायाम अवश्य करे।

11 –रात का डिनर 8 बजे तक कर ले एवं रात का भोजन हल्का करे।

12 –ज्यादा देर फ़ोन या लैपटॉप उपयोग करने से बचे।

  • माइग्रेन सिरदर्द  का परीक्षण

(माइग्रेन की जांच कैसे की जाती है ?)

अगर आप माइग्रेन से पीड़ित है और आपकी स्थिति आसामान्य है या आपको असहनीय दर्द हो रहा है तो डॉक्टर आपको

जांच कराने की सलाह देंगे। जिससे आपके दर्द के संभावित कारणों का पता लगाया जा सके।

1 -खून की जांच – अगर आपमें माइग्रेन के कुछ लक्षण दिखाई देते है तो डॉक्टर आपको खून की जांच करने की सलाह देंगे जिससे आपके दिमाग में होने वाले संक्रमण का पता लगाया जा सके

2 -एमआरआई –एमआरआई से डॉक्टर निम्निलिखित कारणों का पता लगा सकते है जैसेकि -माइग्रेन सिरदर्द के लक्षण एवं उपचार

ट्यूमर

स्ट्रोक

दिमाग में खून बहना

संक्रमण

दिमागी एवं तंत्रिका तंत्र की बीमारी

3 -सीटीस्कैन – सिटीस्कैन से डॉक्टर निम्न्लिखित कारणों का पता लगा सकते है जैसेकि -माइग्रेन सिरदर्द  के लक्षण एवं उपचार

  ट्यूमर

संक्रमण

दिमागी समस्या

मस्तिष्क में रक्तस्राव

दिमाग की नसों में सूजन

4 -स्पाइनल टैप –( रीढ़ की हड्डी में तरल पदार्थ एकत्रित करके उसे जांचना )- यदि डॉक्टर को मस्तिष्क में

संक्रमण या खून बहने आदि का सदेंह होता है तो वह आपको स्पाइनल टैप कराने की सलाह देता है।

आगे भी पढ़े –

मुँह के छालों का इलाज करे इन 10 घरेलु उपायों से

डेंगू वायरस क्या है | डेंगू के कारण लक्षण व उपचार 

मलेरिया के लक्षण ,कारण और इलाज

एनीमिया दूर करने के आसान घरेलु उपाय। एनीमिया क्यों होता है  

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!