करवा चौथ पूजा विधि || karwa chauth 2022

करवा चौथ पूजा विधि – करवा चौथ व्रत प्रत्येक सुहागिन स्त्री के लिए बहुत खास और महत्वपूर्ण होता है। यह प्रत्येक वर्ष दशहरे के एक सप्ताह बाद व दिवाली के एक सप्ताह पहले मनाया जाता है। यह व्रत कार्तिक कृष्ण की चंद्रोदय व्यापिनी चतुर्थी को मनाया जाता है। हिन्दू सनातन धर्म में प्रत्येक सुहागिन स्त्री इस व्रत को रखती है। महिलाये इस व्रत को अपने पतियों की लम्बी आयु के लिए ये व्रत रखती है। यह व्रत अलग -अलग क्षेत्रों  में भिन्न -भिन्न तरीके से मनाया जाता है किन्तु सबका उद्देश्य अपनी पतियों की दीर्घायु का ही होता है। करवा चौथ के दिन सुहागिन स्त्रियां हाथों में मेहँदी ,पैरों में रंग आदि लगाकर खूब सजती सवरती है।

जानें करवा चौथ पूजा विधि  सामग्री –

करवा चौथ पूजा विधि के सामग्री की बात करें तो इसके लिए एक कर्व की जरूरत पड़ती है जो कि प्रत्येक महिला के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है कुछ महिलाएं पीतल का कुछ महिलाएं चांदी का तो कुछ महिलाएं मिट्टी का करवा प्रयोग करती हैं। करवा चौथ का दिन प्रत्येक महिला के लिए बहुत ही खास और महत्वपूर्ण माना जाता है। करवा के अलावा सामग्री में महिलाओं को कुमकुम कपूर चावल हल्दी मिट्टी व कुछ रंगों की जरूरत पड़ती है। कई रंगों से महिलाएं अपने कार्य को खूब सजाती हैं जिससे वह देखने में आकर्षक व सुंदर दिखाई देता है। करवा चौथ के दिन सभी सुहागन महिलाएं छत पर चांद निकलने का इंतजार करती है जैसे ही उन्हें आकाश में चांद दिखाई देता है वह चांद की पूजा करती हैं वह उसके बाद अपने पति के हाथों से पानी पीकर व्रत को तोड़ती हैं। करवा चौथ का दिन प्रत्येक महिला के लिए बहुत ही खास और महत्वपूर्ण माना जाता है। अगर आपको यह ब्लॉक पसंद आया है तो ब्लॉक को लाइक कमेंट जरूर करें आपके यहां करवा चौथ विधि कैसे मनाई जाती है यह भी मुझे कमेंट में लिखकर जरूर भेजें।

यह भी पढ़े –दीपावली पूजन विधि व शुभ मुहूर्त 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!